Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

kaavya manjari

Thursday, July 13, 2017

लेखनी



*******************लेखनी***************
कभी मीरा कभी राधा कभी घनश्याम लिखती हूं
कभी होठों की शबनम कभी तो ज़ाम लिखती हूं
खुद को मिटाके भी सफ़े को रंगीन कर रही मौला
कभी रजनी कभी ऊषा कभी तो शाम लिखती हूं
**********@आनंद*************************


1 comment: