Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

kaavya manjari

Saturday, August 3, 2013

बैठे बिठाए कुछ ............................

बैठे बिठाए कुछ काम कर लूँ मैं..|
ब्रह्मा की सृष्टि को प्रणाम कर लूँ मैं ||

जुल्मों की दुनिया से खुद को गुमनाम कर लूँ मैं|
सच्चे जहाँ में .........कुछ नाम कर लूँ मैं ||


प्यारे मिलन को अविराम कर लूँ मैं |
गिले-शिकवे को राम-राम कर लूँ मैं ||


अनैतिक करम को विराम कर लूँ मैं |
पुण्य धरम को सलाम कर लूँ मैं ||


बैठे बिठाए कुछ काम कर लूँ मैं..|
खुद को किसी का मुकाम कर लूँ मैं ||..........

19 comments:

  1. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  2. अनैतिक करम को विराम कर लूँ मैं
    पुण्य धरम को सलाम कर लूँ मैं ...

    सुन्दर भावमय ...

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन
    अनैतिक करम को विराम कर लूँ मैं
    पुण्य धरम को सलाम कर लूँ मैं ...

    ReplyDelete
  4. सुंदर भाव लिए सुंदर रचना |

    मेरी नई रचना :- जख्मों का हिसाब (दर्द भरी हास्य कविता)

    ReplyDelete
  5. आपके ब्लॉग को ब्लॉग"दीप" में शामिल किया गया है | जरूर पधारें और फॉलो कर उत्साह बढ़ाएँ |
    ब्लॉग"दीप"

    ReplyDelete
  6. आपकी इस उत्तम रचना को " हिंदी बलोगेर्स चौपाल " http://hindibloggerscaupala.blogspot.com/ {शुक्रवार} 4/10/2013 में शामिल किया गया हैं कृपया अवलोकानार्थ पधारे धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. पुण्य धरम को सलाम कर लूँ मैं ...

    सुन्दर भावमय ...

    ReplyDelete
  8. हार्दिक आभार !

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति
    सुरेश राय
    कभी यहाँ भी पधारें और टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें
    http://mankamirror.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. bahut hi sundar dhang se likha hai aapne.. badahai saweekar karein..
    Please Share Your Views on My News and Entertainment Website.. Thank You !

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर चित्रण , भाव पूर्ण रचना , बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  12. आनंद भाई,

    अत्यंत ही भावपूर्ण व प्रेरक अभिव्यकती !

    सादर !

    अनुराग त्रिवेदी - एहसास

    ReplyDelete
  13. bahut hi achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete